भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस क़द्र भी तो बेमिसाल न हो / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस क़द्र भी तो बेमिसाल न हो
कि किसी बात का मलाल न हो

जाने दी आँख को दुआ किस ने
तेरे घर मोतियों का काल न हो

बस कोई लम्हा ज़िन्दगी हो जाय
फिर शबो-रोज़ो-माहो-साल न हो

पत्ते-पत्ते पे तू बजा लेकिन
देखना कोई डाल-डाल न हो

कह रहे हैं कि रात ख़तम हुई
कहने वालों की कोई चाल न हो

तुम जिसे धूप कह रहे हो 'निज़ाम'
साय-ए-रब्बे जुलजलाल न हो