भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस पार अधूरा आधा सब / सतपाल 'ख़याल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
इस पार अधूरा आधा सब
उस पार भी है अनजाना सब

किस ठौर सकून मिलेगा अब
सब रिश्ते झूठ छलावा सब

तू ही तू है ता हद्दे-नज़र
ये परबत सागर सहरा सब

यारो इन्सान ही झूटा है
हैं सच्चे मंदिर काबा सब