भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस पेड़ नीचै आओ हे रुकमण / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस पेड़ नीचै आओ हे रुकमण, आओ हे रुकमण, गलियां मैं किरसन मुरारियां
अब कैसे आऊं स्याम सुन्दर, मदन मोहन, बाबा जी मंडप छाइयां
बाबा हमारे दान देंगे, दहेज देंगे, थाल भर मोतियन के देंगे
लोटा भर के नीर देंगे, पीओ हे जी तुम किरसन मुरारियां
इस पेड़ नीचै आओ हे रुकमण, आओ हे रुकमण, गलियां मैं किरसन मुरारियां
अब कैसे आऊं स्याम सुन्दर, मदन मोहन, ताऊ जी मंडप छाइयां
ताऊ हमारे दान देंगे, देहज देंगे, थाल भर मोतियन के देंगे
लोटा भर के नीर देंगे, पीओ हे जी तुम किरसन मुरारियां
इस पेड़ नीचै आओ हे रुकमण, आओ हे रुकमण, गलियां मैं किरसन मुरारियां
अब कैसे आऊं स्याम सुन्दर, मदन मोहन, फूफा जी मंडप छाइयां
फूफा हमारे दान देंगे, देहज देंगे, थाल भर मोतियन के देंगे
लोटा भर के नीर देंगे, पीओ हे जी तुम किरसन मुरारियां