भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस बरस अब / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बाट तिहारी
मधुमास निहारे
मन-आँगन
दहकते अंगारे
तन-चंदन
सुलगाएँ फुहारें
होम अग्नि में
ज्यों घृत हो द्रवित
ये कौन कहे
कि तन की है ज्वाला,
यह बन्धन
मन से मन का रे !
अधरों पर
यों अधरों की प्याली
मैं रूक्ष धरा
तू बदली निराली
बरस जा ना !
इस बरस अब,
मैं जनमों की
पिया रही हूँ प्यासी
युगों- युगों से
बैठी नैन सँजोए
सभी स्वप्न गुलाबी !
-०-