भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस बार / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक बार नहीं
कई बार हुआ है यह
कि जब-जब भी हम
अंतिम निर्णय लेने के क्षणों में होते हैं
तुम आ पहुंचे हो
आत्म-समर्पण का
कोई न कोई नया रूप लेकर !

कभी तुम्हारे मुंह में घास होती है
कभी हमें ललचाने के लिए
सुविधाओं की टाफियां
कभी गर्म गोश्त की नुमाइश
और कभी वातानुकूलित आवासों के नक्शे !

तिल-तिल कर बटोरी गई आग
तुम्हारे समर्पण का शिकार बन
फिर बिखर जाती है
आसानी से न सहेजे जा सकने वाले
पारे की तरह !

अपनी सफलताएं देख हर्षाने वालो !
आग सहेजने-बटोरने की प्रक्रिया
बंद नहीं होगी
मंद नहीं होगी
इस बार
हम तुम्हारे हर छदम को
बेनकाब करने की ठाने बैठे हैं

इतिहास ने सर्तक कर दिया है हमें
अब गलतियों की पुनरावृति हो
यह न ति इतिहास चाहता है
और न ही हम !