भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईश्वर / निरंजन श्रोत्रिय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ईश्वर है
कि बस पहाड़ पर लुढ़कने से बच गई
बच्चे लौट आए स्कूल से सकुशल
पिता चिंतामुक्त माँ हँस रही है
प्रसव में जच्चा -बच्चा स्वस्थ हैं
दोस्त कहता है कि याद आती है
षड़यंत्रों के बीच बचा हुआ है जीवन
रसातल को नहीं गई पृथ्वी अभी तक।

तुम डर से
भोले विश्वासों में तब्दील हो गए हो
ईश्वर बाबू!