भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईश / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन ही मेरा दोस्त है
मन रहा है साथ हमेशा
मेरे अधूरेपन को सँवारता
डर के कण निकलता
मेरे साथ मेरे सपनों को पालता
इस मन का साथ रहा है मेरे साथ
कई बार सम्भाला है मन ने
एकाकी से उबारा है मन ने
कई अधूरी बातों को चुपचाप पूरा किया है
मेरे मन ने
जब मैं दुरूखी होता हूँ
मन भी थोड़ी देर साथ देता है
पर फिर सम्भालता है मुझे
मन ही है जो विश्वास देता है
ख़ुशियों की चाह देता है
चलने की राह देता है
मन ही मेरा दोस्त है
मन ही मेरा ईश