भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईसवर के गुण गाइये मेरी बहना / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ईसवर के गुण गाइये मेरी बहना
आर्यों का प्रण पुगाइये मेरी बहना
पुगाइये मेरी बहना
जै तेरा सुसरो पानी हे मांगै
तो कच्चा दूध पिलाइये मेरी बहना
पिलाइये मेरी बहना
जै तेरा जेठा रास्तो मैं मिल जाय
तो दस डंग परै के निकलिये मेरी बहना
निकलिये मेरी बहना
जै तेरा कन्था मारण चड्ढ जा
तो पत्थर सी बन ज्याइये मेरी बहना
बन ज्योईये मेरी बहना
ईसवर का गुण गाइये मेरी बहना
आर्यों का प्रण पुगाइये मेरी बहना