भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईसुरी की फाग-10 / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पतरें सोनें कैसे डोरा, रजऊ तुमाये पोरा

बड़ी मुलाम पकरतन घरतन लग न जाए नरोरा

पैराउत में दैया-मैया, दाबत परे दादोरा

रतन भरे सें भारी हो गये, पैरन कंचन बोरा

'ईसुर' कउँ का देखे ऎसे, नर-नारी का जोरा ।