भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईसुरी की फाग-14 / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

इन पै लगे कुलरियाँ घालन, भैया मानस पालन

इन्हें काटबो न चइयत तौ, काट देत जो कालन

ऎसे रूख भूँख के लानें, लगवा दये नंद लालन

जे कर देत नई सी ईसुर, मरी मराई खालन ।