भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईसुरी की फाग-16 / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ऎसी पिचकारी की घालन, कहाँ सीख लई लालन

कपड़ा भींज गये बड़-बड़ के, जड़े हते जर तारन

अपुन फिरत भींजे सो भींजे, भिंजै जात ब्रज-बालन

तिन्नी तरें छुअत छाती हो, लगत पीक गइ गालन

ईसुर अज मदन मोहन नें, कर डारी बेहालन ।