भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईसुरी की फाग-17 / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

देखी रजऊ काउनें नइयाँ, कौन बरन तन मुइयाँ

काँ तौं उनकी रहस रास है, काँ दये जनम गुसइयाँ

पैलऊँ भेंट हमईं सें न भई सही कृपा हम पैयाँ

ईसुर हमने रजऊ की फागें, कर दई मुलकन मैंया ।