भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उकताहट / कंस्तांतिन कवाफ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक ऊबाने वाला दिन लाता है दूसरा
बिलकुल वैसा ही उबाऊ ।
एक-सी चीज़ें घटेंगी,
वे घटेंगी फिर...
वही घड़ियाँ हमें पाती हैं और छोड़ देती हमें ।

गुज़रता है महीना एक और दूसरे में आता ।
कोई भी सरलता से घटनाएँ भाँप ले सकता है आने वाली;
वे वही हैं बीते दिन की बोझिल वाली ।
और ख़त्म होता है आने वाला कल बिना एक आने वाला कल लगे

अँग्रेज़ी से अनुवाद : पीयूष दईया