भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उजड़ा सुहाग है / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूखी नदियाँ
नीर नहीं पाएँगे
नीर न मिला
गाछ कहाँ हों हरे
गाछ न हरे
नीड न बनाएँगे
नीड के बिना
बेचारे प्यारे पाखी
बोलो तो ज़रा
किस देश जाएँगे ।
निर्झर सूखे
कल -कल उदास
पाखी न कोई
आता है अब पास
रोता वसन्त
रो रहे हैं बुराँश
बचा खुचा जो
लील गई आग है
हरीतिमा का
उजड़ा सुहाग है
बहुत हुआ
अब तो जाग जाओ
छाँव तरु की
बूँद -बूँद नीर की
मिलकर बचाओ।
-0-