भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उजली छाया / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: लैंग्स्टन ह्यूज़  » संग्रह: आँखें दुनिया की तरफ़ देखती हैं
»  उजली छाया

इस पृथ्वी पर
एक ऐसी रात मैं खोज रहा हूँ
जिस पर नहीं पड़े कहीं भी
गोरों की उजली छाया

पर हमारे काले भाइयो!
ऐसी कोई रात
कहीं है ही नहीं


मूल अंग्रेज़ी से अनुवाद : राम कृष्ण पाण्डेय