भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उठता गिरता पारा पानी / प्रदीप कान्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उठता गिरता पारा पानी
पलकों पलकों ख़ारा पानी
 
चट्टाने आईं पथ में जब
बनते देखा आरा पानी
 
नानी की ऐनक के पीछे
उफन रहा था गारा पानी
 
पानी तो पानी है फिर भी
उनका और हमारा पानी
 
देख जगत को रोया फिर से
यह बेबस बेचारा पानी