भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उठो मैया! बाँटोॅ परसाद / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

शीतल माय के आंगना में- आइलोॅ छै भजनियां हो।
भजन करै लेॅ भाय।
उठो मैया बाँटोॅ परसाद-
भजनियां भैया- घर जाइतै हो।
मालत माय के आंगना में- आइलोॅ छै भजनियां हो।
भजन करै लेॅ भाय।
उठो मैया बाँटोॅ परसाद-
भजनियां भैया- घर जाइतै हो।
धनसर माय के आंगना में- आइलोॅ छै भजनियां हो।
भजन करै लेॅ भाय।
उठो मैया बाँटोॅ परसाद-
भजनियां भैया- घर जाइतै हो।
फूलसर माय के आंगना में- आइलोॅ छै भजनियां हो।
भजन करै लेॅ भाय।
उठो मैया बाँटोॅ परसाद-
भजनियां भैया- घर जाइतै हो।
कालि माय के आंगना में- आइलोॅ छै भजनियां हो।
भजन करै लेॅ भाय।
उठो मैया बाँटोॅ परसाद-
भजनियां भैया- घर जाइतै हो।
सभ्भे माय के आंगना में- आइलोॅ छै भजनियां हो।
भजन करै लेॅ भाय।
उठो मैया बाँटोॅ परसाद-
भजनियां भैया- घर जाइतै हो।