भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उठ ले रे ऊठ ले रोसन बांन बठावांगे / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उठ ले रे ऊठ ले रोसन बांन बठावांगे
बटणे की खसबोई तेल चढावांगे
ऊठ ले रूप मोड़ बंधाले नै
रोसन छोरी गैल ब्याह करवाले नै
फेरे होलिये, विदा होली, बैठली डोले मैं
घर का सुणा दे हाल रोसन छोरी नैं
अस्सी बीघै धरती तेरे ब्याह मैं गैणा धरदी
ऊठ ले रे ऊठ ले रोसन बांन बठावांगे
बटने की खसबोई तेल चढावांगे