भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उड़ा ले गई / ज्योत्स्ना शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

61
हुई बावरी
सागर की बाँहों में
सिमटी, मिटी.
62
उड़ा ले गई
ख़ुशियों की पोटली
आँधी ईर्ष्या की।
63
झुके पहाड़
आँधी में रजकण
चढ़ते शीश।
64
नदी तट पे
अनगिन चिताएँ
ये भी उजाला!
65
चर्चा भी चली
गीत पर पवन के
झूमी जो कली।
66
जीवन-राह
जुगनू से चमके
तेरे दो नैन।
67
चम्पई शॉल
चल पड़ा बटोही
काँधे पर डाल।
68
अँधेरा डरा
इरादों ने पथ में
उजाला भरा
69
दिए तो जिए
उजालों की ख़ातिर
तुम्हारे लिए.
70
दिए तो जले
उजालों की चाहत
अँधेरे मिले।