भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उड़ी सुगन्ध / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


निर्द्वन्द्व मन
शान्त नील गगन
प्रेमघन-से
प्रिय छाए-घुमड़े
आँधी जग की
तेज चलती रही
मैं भी अडिग
तुम भी थे हठीले
हुए घनेरे
निशि-साँझ-सवेरे
तन यों मेरे
झरी प्रेम फुहारें
तपती धरा
अभिसिंचित हुई
उड़ी सुगंध
कुछ सोंधी-सोंधी-सी,
उन बूँदों से
है अतृप्त जीवन
अस्तु शेष हैं
पुनः-पुनः अब भी
प्रेमघन को
मन के आमंत्रण
और आशा भी-
बरसेगा अमृत
सुगन्धित हो
होगा तृप्त जीवन
तन -मन चन्दन
-0-