भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उत्सव / जय गोस्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गाड़ के रखी लाशों के पहले
है बहा दी गई लाशों की कहानी

तालपाटी नहर से बह-बह
इस देश के सारे नदी किनारे
कोई औंधा कोई चित्त पड़ा शव ।

शरीर में गोली का ज़ख़्म । ऊपर माथे के
भर रात चाँद का पहरा ।

जिन लोगों ने चलाई है गोली कविता उत्सव का लेते सहारा ।

बांग्ला से अनुवाद : संजय भारती