भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उदयप्रताप सिंह / परिचय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
हाईस्कूल में पढते समय ही छन्द रचने लगे । किशोरवय में मार्क्सवाद की ओर रुझान । अंग्रेजी एवं हिन्दी में एम.ए. । अंग्रेजी के प्राध्यापन के रूप में लोकप्रिय और प्रतिष्टित । मदन इंटर कौलेज़, भोगाँव और नारायण इंटर कौलेज, शिकोहाबाद में १८ वर्षों तक प्राचार्य का पद सँभाला ।

१९८९ में लोकसभा के सदस्य के रूप में मैनपुरी क्षेत्र से निर्वाचित । १९९७ से २००० तक राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के सदस्य के रूप में कार्य । दो बार राज्य सभा के सदस्य के रूप में उत्तर प्रदेश से मनोनयन । संप्रति राज्यसभा के सदस्य के रूप में देश सेवा ।

१९९३ में सूरीनाम में आयोजित विश्व हिन्दी सम्मेलन में भारतीय साहित्यकारों का नेतृत्व किया । अब तक १७-१८ देशों की यात्रा । सांसद होते हुए भी बेहद फ़क्कड़, सहज और धरती से जुड़े व्यक्ति ।

संपर्क : १९ फ़िरोज़ शाह रोड़ नई दिल्ली - ११०००१