भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उदास खुशियाँ / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज दिल फिर उदास हैं
अकसर मेरे हाथ यही लगता है
ख़ुशियों का मुझसे कोई ज़्यादा सरोकार नहीं
वो आती है, कमबख़्त जाने के लिए
हर बार मेरे ख़्वाब-ऐ-नक्श बदलने के लिए

अब दिल को राहत-ऐ-दीदार का इंतजार फिर से रहेगा
सहमे से ख़्वाब फिर से देखें जाएँगे
मुस्कानों की नूर-ऐ-लहर का फिर होगा इंतजार
दहकते दिल को फिर होगा जोश-ओ-अंगार

पर आखिर कब तक चलेगा यह सिलसिला
शायद जब तक ये साँसे चले?
जब तक इस जि़ंदगी की लौ जले
एक उम्र गुजर चुकी है इन गमों के साये में
बाक़ी भी कट जाएगी खुशियों के इंतजार में...