भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उदास / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस तरह तो मत होना उदास
कि मैं पस्त हो जाऊं
और सोच ही नहीं सकूं
कुछ भी अच्छा और आशा से भरा

इस तरह तो मत होना उदास
कि हंस ही न सके इस बार
जिस बात पर दुहरे हुए थे
हंसी के मारे पिछली बार

मत होना
मत होना
मत होना उदास
कि उदासी बुरी होती है
उस चेहरे पर तो बहुत
जिसने दुःख से लड़ी हो लडाई
हंसते हंसते .