भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उद्गीत / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
मैं हूँ उद्गीत
भँवर से गाते हो
मुझे ओ मीत
2
मैं हूँ पाँखुरी
तुम रंग हो मेरा
सदैव संग
3
तुम प्रणव
मैं श्वासों की लय हूँ
तुम्हें ही जपूँ
4
प्रतीक्षारत
तापसी योगिनी मैं
तू योगीश्वर
5
शैल नदी -सी
प्रत्येक शिला पर
लिखा संघर्ष
6
प्रकृति आद्या
चेताये मानव को
तोड़ती भ्रम
7
दिग-दिगन्त
कुपित मानव से
फूटा रुदन
8
संध्या व भोर
ये प्रकृति नचाये
खींचती डोर
9
मद में चूर
मानव की पिपासा
प्रकृति दूर
10
उमड़े ज्वार
मन समंदर में
भाटा विचार



-०-