भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उद्योग / जय गोस्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़मीन छीन लेना ही, अहम काम !
बेघर करना ही, अहम काम !
चलो गर्दनिया देकर खदेड़ दो,
उसके बाद खड़े करो,
हमारी छाती पर,
ऊँचे-ऊँचे उद्योग ! उद्धत समाज !

साथ में कुछेक पुलिस का होना, ज़रूरी है
वर्ना कैसे छल-बल से,
मुझे 'बाहरी आदमी' कहकर
मेरी हड्डी-पसली तोड़ेंगे, भइये?

आज से यही है लोकतंत्र !
आज से यही है लोकतंत्र !

बांग्ला से अनुवाद : सुशील गुप्ता