भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उनकी खुशी में जान दूँ, मेरी ख़ुशी-खुशी नहीं / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


उनकी ख़ुशी में जान दूँ, मेरी ख़ुशी-ख़ुशी नहीं।
जैसे वही तो हैं ख़ुदा, मैं कोई चीज़ ही नहीं॥

उनकी पस्न्द है नियाज़, तर्के-नियाज़ क्या करूँ?
कोशिशे-बन्दगी में हूँ, आदते-बन्दगी नहीं॥