भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उनकी पराजय का घोषणा पत्र होगा फिलीस्तीन / बोधिसत्व

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे घर होगा तो
बाहर-भीतर कहीं न कहीं
...चूल्हा होगा
उसे जलाने वाले लोग होंगे
वैसे ही सूर्य के होने पर
उसकी ललाई में
रहेगा फिलीस्तीन ।

वे डरते हैं फिलीस्तीन से
वे किसी भी उठ रहे देश से
उसकी आवाज से डरते हैं
उनके नक्शे में न होने
का मतलब नहीं कि पूरे भूगोल में नहीं है फिलीस्तीन

उनकी पसंद है झुके हुए आदमी और देश
उनके आँख की किरकिरी है फिलीस्तीन।

पहाड़ के नीचे नहीं दबा होगा फिलीस्तीन
पखुरों और गट्टों में होगा
रेत में डूबा होगा फिलीस्तीन
खाईं-खंदक में होगा
कानाफूँसी-चहल-पहल में होगा
खेतों में, खुले मैदानों में होगा फिलीस्तीन
पाताल में नहीं होगा फिलीस्तीन

आँखों की रंगीन पुतलियों में होगा
रीढ़ की हड्डिय़ों में होगा फिलीस्तीन

खटने के वक्त पसीने की तरह होगा
उसके स्वाद की तरह होगा फिलीस्तीन

होगा किसी भी सूरत में
उनकी पराजय का घोषणा पत्र होगा
फिलीस्तीन ।