भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उन्होंने उससे पूछा / महमूद दरवेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उन्होंने उससे पूछा —
तुम क्यों गाते हो?

उसने जवाब दिया —
मैं गाने के लिए गाता हूँ।

उन्होंने उसकी छाती टटोली
पर वहाँ उसका दिल नहीं ढूँढ़ पाए

उन्होंने उसका दिल टटोला
पर उन्हें वहाँ नहीं मिले उसके लोग

उन्होंने उसकी आवाज़ की तलाशी ली
पर उन्हें वहाँ उसका दुख नहीं मिला

उसके बाद उन्होंने उसके दुख की तलाशी ली
और वहाँ उन्हें मिला उसका क़ैदख़ाना

उन्होंने तलाशी ले डाली कैदख़ाने की
लेकिन उन्हें दिखे वे सब सिर्फ़ बेड़ी-हथकड़ी में।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय

लीजिए, अब यही कविता अँग्रेज़ी में पढ़िए
And they asked him:
Why do you sing?

And he answered:
I sing because I sing

And they searched his chest
But could only find his heart

And they searched his heart
But could only find his people

And they searched his voice
But could only find his grief

And they searched his grief
But could only find his prison

And they searched his prison
But could only see themselves in chains.