भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उन में से बच रहे जो हम हैं मियाँ / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उन में से बच रहे जो हम हैं मियाँ
सब इसी बात के ही ग़म हैं मियाँ

दुःख समझ लेंगे लोग कम है मियाँ
जी में ऐसे ही कुछ भरम हैं मियाँ

इक धुंधलका है आँख के आगे
और रुकते हुए क़दम हैं मियाँ

खौफ़ में है ख़ला की ख़ामोशी
फ़ासले अब बहुत ही कम हैं मियाँ

मर के भी छूट जाएँ कौन कहे
जाने कितने अभी जनम हैं मियाँ

क़ाबिल-ए-ज़िक्र कोई बात नहीं
क्या कहें क्यूँ उदास हैं मियाँ

मसअला हल करे तो कैसे करे
इब्ने-मरियम के अपने ग़म है मियाँ