भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उपरा डिबल बाटे बाज / रामपति रसिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रामपति रसिया का यह गीत अधूरा है, आपके पास हो तो इसे पूरा कर दें

उपरा डिबल बाटे बाज, नाज मति कर.. छोड़.. चिरई
कबले छिपल अपने खोतवा में रहबू
केकरा से मनवां के दुखवा के कहबू
छुटि जाई धरती के राज, नाज मति कर.. छोड़.. चिरई ।