भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उपस्थिति / संतोष अलेक्स

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेज़ पर लगा खाना
बताता है कि मेरी पत्नी है यहीं
सोफ़े पर पड़ा खिलौना
बताता है कि मेरा बेटा है कहीं
लापरवाही से पलंग पर पड़ा कंघा
बताता है मेरी बिटिया के बारे में
मुझे भी देर हो गई है
मैं भी उपस्थित हूँ यहाँ फिर
 
अनुवाद : अनिल जनविजय