भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उफ़नती जलराशि / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: लैंग्स्टन ह्यूज़  » संग्रह: आँखें दुनिया की तरफ़ देखती हैं
»  उफ़नती जलराशि

तुम लोगों के लिए
तुम लोग जो समुद्र के झाग-मात्र हो
समुद्र नहीं हो

क्या मतलब है तुम्हारे लिए
लहरों के आघात से विदीर्ण होते पहाड़ों का
या उन लहरों का ही
अथवा उफ़नती जलराशि की अदम्य ताक़त का
तुम लोग तो समुद्र के ऊपर का झाग-मात्र हो

तुम धनी लोग
समुद्र नहीं हो


मूल अंग्रेज़ी से अनुवाद : राम कृष्ण पाण्डेय