भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

उभरने लगा है / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिसम्बरी अदीतवार
कोहरे में डूबा समूचा शहर
मैं तुम्हारी याद में

उधर कोहरे को चीर
आहिस्ता-आहिस्ता तैरती
आ रही है सोनल धूप
इधर मन के तालाब में
महकने लगा है कंवल
आंखों के आगे उभरने लगा है चांद …. !