भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उभरे जा ख़ाक से वो तह-ए-ख़ाक हो गए / 'हफ़ीज़' जालंधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उभरे जा ख़ाक से वो तह-ए-ख़ाक हो गए
सब पाइमाल-ए-गर्दिश-ए-अफ़लाक हो गए

रखती थी लाग मेरे गिरेबाँ से नौ-बहार
दामन गुलों के बाग़ में क्यूँ चाक हो गए

थे दीदा-हा-ए-ख़ुश्क मोहब्बत की आबरू
कम-बख़्त उन के सामने नम-नाक हो गए

ऐसा भी क्या मिज़ाज क़यामत का दिन है आज
पेश-ए-ख़ुदा तुम और भी बे-बाक हो गए

आते ही बज़्म-ए-वाज़ से चलते बने ‘हफीज’
दो हर्फ़ सुन के साहिब-ए-इदराक हो गए