भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उम्र आखिर है जुनूँ कर लूँ बहाराँ फिर कहाँ / इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उम्र आखिर है जुनूँ कर लूँ बहाराँ फिर कहाँ
हाथ मत पकड़ो मिरा यारों गरेबाँ फिर कहाँ

चश्म-ए-तर पर गर नहीं करता हवा पर रहम कर
दे ले साक़ी हम को मय ये अब्र-ए-बाराँ फिर कहाँ

यार जब पहने जवाहिर कर दे ऐ दिल जी निसार
जल चुक ऐ परवाने ये रंगीं चराग़ाँ फिर कहाँ

इस तरह सय्याद कब आज़ाद छोड़ेगा तुम्हें
बुलबुलों धूमें मचा लो ये गुलिस्ताँ फिर कहाँ

है बहिश्तों में ‘यक़ीं’ सब कुछ व-लेकिन दर्द नईं
भर के दिल रो लीजिए ये चश्म-ए-गिर्यां फिर कहा