भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उम्र भर हम रहे शराबी से / मीर तक़ी 'मीर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उम्र भर हम रहे शराबी से
दिल-ए-पुर्खूं की इक गुलाबी से

खिलना कम-कम कली ने सीखा है
उसकी आँखों की नीम ख़्वाबी से

काम थे इश्क़ में बहुत ऐ मीर
हम ही फ़ारिग़ हुए शताबी से