भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उलझन सुलझते ही / अरविन्द श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उलझन सुलझते ही
कुछ ने फेर लिया मुँह
कुछ ने तोड़ लिया नाता
कुछ जुट गए
उलझन से त्रस्त लोगों की तलाश में
और कुछ आ धमके
उलझन भरे दिनों में
मुझ पर खर्च किए गए
शब्दों को वापस मांगने।