भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उल्फत -ए-रुसवाई / धीरेन्द्र अस्थाना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उल्फत -ए-रुसवाई में जो मिली जुदाई ,
तन्हाई में जीने की आदत सी हो गयी ...............!

गुजरे हैं जिन्दगी के उस मुकाम से ,
हर गम पीने की आदत सी हो गयी...!

अब तो बस दिए हुए उन जख्मों को ,
यादों में सीने की आदत सी हो गयी...!

खुद मेरी मंजिल मालूम नहीं मुझे ,
भीड़ में खो जाने की आदत सी हो गयी...!

ये ज़िंदगी तो अब मुकद्दर बन गयी ,
सजा -ए - मौत पाने की आदत सी हो गयी...!

सैयाद तेरा दाम कितना ही नाजुक हो ,
इस में फडफड़ाने की आदत सी हो गयी...!

उल्फत -ए-रुसवाई में जो मिली जुदाई ,
तन्हाई में जीने की आदत सी हो गयी...!