भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उल्लू / ऊलाव हाउगे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ऊलाव हाउगे  » उल्लू

पकी बेरियों से भरे बगीचे में
पेड़ चमकते हैं,
कस्तूरा शोर मचाती आती है।
और गोल सिर लिए,
त्योरियाँ चढ़ाए उल्लू बैठा है।
कस्तूरा इधर-उधर फुदकती है, सजगता में
भाग जाती है।

हालाँकि उल्लू मृत है
और धूप में बैठा है,
पेड़ में जहाँ उल्लू है
वहाँ रात जैसा काला और डरावना है ।


अंग्रेज़ी से अनुवाद : रुस्तम सिंह