भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसका पोज / निशान्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसने हर बार चाहा कि
अबकी बार तो
बन जाए
मुस्कराहट भरी पोज
लेकिन लाख कोशिशों के
बावजूद
फोटोग्राफर के
‘स्माईल प्लीज’ पर
कुछ नहीं हुआ उससे
और फोटो में
आ गया वही
लटका हुआ चेहरा।