भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसकी कलाई पर लिखा है नाम तेरा / शार्दुला नोगजा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसकी कलाई पर लिखा है नाम तेरा
याद में तेरी ना वो जोगन बनेगी
ईंट, पत्थर, पानी और आलाव का घर
सेंक रोटी हाथ की रेखा दहेगी

वह नदी जो जंगलों में बह रही है
मानिनी सागर से जा कर ना मिलेगी
हर लहर हो वाष्पित अंत: तपन से
याद के दीपक विसर्जित कर जलेगी

उसकी कलाई पर लिखा है नाम तेरा

क्यों बंधा ये बंध तुझ से, वो ना समझी
रेशमी ये गांठ तुझसे ना खुलेगी
तोलता जिसमें है तू कुछ काँच, हीरे
खुशबूएं ये उस तराज़ू ना तुलेंगीं

होंठ पे गुड़मुड़ रखी एक मुस्कुराहट
देखना, कुछ ही पलों में खिल हँसेगी
फिर कहेगी गीत से, तू क्यों खड़ा है
जिन्दगी की टेक है, चलती रहेगी

उसकी कलाई पर लिखा है नाम तेरा

२ नवम्बर ०८