भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसके इतने क़रीब हैं हम तो / अमन चाँदपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसके इतने क़रीब हैं हम तो
अब तो ख़ुद के रक़ीब हैं हम तो

शेर कहते हैं छोड़कर सब काम
यार सचमुच अजीब हैं हम तो

ये दुआ है नवाज़ दे या रब
इल्मो-फ़न से ग़रीब हैं हम तो

इब्ने मरियम से अपना रिश्ता है
आशना-ए-सलीब है हम तो

अब तलक इश्क़ से है महरूमी
अब तलक बदनसीब हैं हम तो

हम तो शायर हैं ऐ! अमन गोया
इस सदी के अदीब हैं हम तो