भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसके नयन में ग़म्ज़:-ए-आहू पछाड़ है / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसके नयन में ग़म्‍ज:-ए-आहू पछाड़ है
ऐ दिल सम्‍हाल चल कि अगे मार-धाड़ है

तुझ नैन के चमन मिनीं क्‍यूँ आ सकूँ कि याँ
ख़ाराँ के झाड़ ख़ंजर-ए-मिज़्गाँ की बाड़ है

जिसकूँ नहीं है बोझ तिरे हुस्‍न-ए-पाक की
तिनका नज़ीक उसके मिसाल-ए-पहाड़ है

नर्गिस के फूलने की करे सैर दम-ब-दम
जो तुझ निगाह-ए-मस्‍त का कैफ़ी कराड़ है

दिल में रखा जधाँ सूँ 'वली' तुझ दतन की याद
दाड़म नमन तधाँ सूँ सिने में दराड़ है