भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसको हासिल क्यूँ होवे जग में फ़रोग़-ए-ज़िदगी / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसको हासिल क्‍यूँ होवे जग में फ़रोग़-ए-ज़िदगी
गर्दिश-ए-अफ़लाक है जिसकूँ अयाग़-ए- ज़िदगी

ऐ अज़ीज़ाँ सैर-ए-गुलशन है गुल-ए-दाग़-ए-अलम
सुहबत-ए-अहबाब है मा'नी में बाग़-ए- ज़िदगी

लब हैं तेरे फि़लहक़ीक़त चश्‍म-ए-आब-ए-हयात
खि़ज़्र ख़त ने उससूँ पाया है सुराग़-ए- ज़िदगी

जब सूँ देखा नईं नज़र भर काकुल-ए-मुश्‍कीन-ए-यार
तब सूँ ज्‍यूँ संबल परीशाँ है दिमाग़-ए- ज़िदगी

आसमाँ मेरी नज़र में काबा-ए-तारीक है
गर न देखूँ तुजकूँ ऐ चश्‍म-ओ-चिराग़-ए- ज़िदगी

लाला-ए-ख़ूनीं कफ़न के हाल सूँ ज़ाहिर हुआ
बस्‍तगी है ख़ाल सूँ ख़ूवाँ के दाग़-ए- ज़िदगी

क्‍यूँ न होवे ऐ 'वली' रौशन शब-ए-क़द्र-ए-हयात
है निगाह-ए-गर्म-ए-गुलरूयाँ चिराग़-ए- ज़िदगी