भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसने ज़िन्दगी दी तोहफ़े में मुझे / वेरा पावलोवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसने ज़िन्दगी दी
तोहफ़े में मुझे ।

मैं क्या दे सकती हूँ
बदले में उसे ?

अपनी कविताएँ
कुछ और है भी तो नहीं मेरे पास ।

लेकिन क्या
सचमुच वे हैं मेरी ही ?

वैसे ही जैसे बचपन में
माँ के जन्मदिन पर देने के लिए
मैं चुना करती थी कोई कार्ड
और क़ीमत चुकाती थी पिता के पैसों से ।

क्या मेरी कवितायेँ सचमुच हैं मेरी ही ?

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल