भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस एकांत में हर पहचान धुंधली है / अनुपमा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो एक पुल था
आंसुओं से निर्मित
उस से होकर
पहुंचा जा सकता था
उन प्रांतरों तक...

जहाँ तक पहुंचाना
किसी ठोस स्थूलता के
वश की बात नहीं... !

सूक्ष्म एहसासों तक
पहुँचते हुए
हम पीछे रह जाते हैं...
वहां पहुँचते हैं वही सार तत्व
जो रूह के
हिस्से आते हैं...

उस एकांत में
हर पहचान धुंधली है...
हमने मौन
आँखें मूँद ली है... !!