भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस गुलाब के पत्तों पर / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम अमूल्य हो
और मैं असंभव।
मोल लगाए़ँ कैसे उसका
जो है बीच तुम्हारे मेरे।
ये बातें जो खो जाती हैं
पर सीधी अनंत में जाकर
पल वे सारे शून्य
समय के पैमाने पर।
दृष्टि अमिट रह गई
मिली जो अनजाने में
दृश्य कहीं छिप गये
सूर्य के आलोकों में।
दिन प्रचण्ड था
किन्तु ओस की
बूँदें अब तक जमी हुई हैं
उस गुलाब के पत्तों पर
जो मुझे दिया था तुमने छू कर।