भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस तारे-सी / सविता सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लाना मेरे लिए ख़ुद को
जैसे चिड़िया लाती है तिनका संभाल कर

एक तारा लाना
अनजाने हर रात जो तुम्हारे बिस्तर में आता है
तुम्हारी नींद में शामिल होने
तुम्हारे जागते ही मगर
गायब हो जाता है जो
कि खलल न पड़े
तुम्हारे दूसरे प्रेम में

यह दुनिया भरी पड़ी है कितने ही सौन्दर्य से
उतनी ही कुरूपताओं से
सोचती हूँ कौन-सी सुंदर चीज़ें हैं
तुम्हारी पसंद की
चाहती हूँ उनमें ही रहना
उस तारे-सी
जो अपनी अनुपस्थिति में
शामिल रहता है तुम्हारी चर्या में सदा