भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस बेवफ़ा को अपना बनाने से फ़ायदा / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उस बेवफ़ा को अपना बनाने से फ़ायदा
बेवज्ह जुल्म ख़ुद पर ही ढाने से फ़ायदा

चाहा बहुत न राज़े-महब्बत खुले कभी
खुल ही गया है जब तो छुपाने से फ़ायदा

आईन का मिटा दिया हो जिसने लफ़्ज़-लफ़्ज़
आईना उस बशर को दिखाने से फ़ायदा

नीलाम जिसने कर दिया अपने ज़मीर को
ऐसे बशर को कुछ भी सुनाने से फ़ायदा

दरकार कुछ न था जिन्हें दरकार है सब आज
औक़ात उनकी क्या है बताने से फ़ायदा

हमने जिसे था टूट के चाहा हयात में
उसके लिए अब अश्क बहाने से फ़ायदा

सच-झूठ से उरूज की मंज़िल जो पा गये
'दरवेश' उनके ऐब गिनाने से फ़ायदा